मीठे स्वादिष्ट खजूर - कुमाऊँनी रैसिपी


आज की रेसिपी: "मीठे स्वादिष्ट खजूर"

फेसबुक पेज-पहाड़ी बगस

आज बात करते हैं पहाड़ का सबसे जाना माना प्राचीन स्वादिष्ट पकवान/व्यंजन/मिठाई जिसे खजूर के नाम से जाना जाता है कुमाँऊँ क्षेत्र में!

पुराने समय में जब संसाधन इतने आम नहीं थे, मीलों पैदल रास्तों से गुजरना होता था, कई दिनों में गंतव्य स्थान पर पहुंचना होता था तो गांव से किसी काम या नौकरी के लिए परदेस की ओर जाने वाले के लिये घरवाले इन #खजूर को बनाते थे/हैं जिससे वो पैदल रास्तों में इनको खाकर अपनी भूख मिटाते थे/हैं....शुद्ध देशी घी, दूध, आटे से बने ये खजूर लम्बे समय तक चल जाते हैं ! #पहाड़ी_खजूर के बारे में ज्यादा आप एक ब्लॉग www.gopubisht.com में भी पढ़ सकते हैं!
चलो बताते हैं इस स्वादिष्ट पकवान की पहाड़ी रेसिपी!!

खजूर बनाने के लिये आवश्यक सामग्री : ->
१. गेहूँ का आटा
२. चीनी/गुड़ का सरबत
३. दूध
४. घी
५. तेल
६. सौंप

खजूर बनाने की विधि इस प्रकार है 👉
सबसे पहले आप दूध गर्म कर लें, उसमें चीनी मिलायें, सौंप मिलायें, घी मिलाएं और गुनगुना या नार्मल होने दें !
एक बर्तन में आवश्यकता अनुसार गेहूं का आटा ले लें और फिर उसमें उस दूध को डालते हुये गुंथें !
चूल्हे पे कढ़ाई रखें तेल डालें और गर्म होने दें !
गुंथे हुये आटे से मोटी मोटी गोल लोई बनायें और उसे चकले बेलन के सहारे बेलें !
चकले के ऊपर ही चाक़ू, या पलटे के सहारे उन्हें काट कर छोटे छोटे आयताकार टुकड़े बनायें और कढ़ाई में डाले और तलें ! बस स्वादिष्ट खजूर तैयार ! आप इन्हें चाय के साथ ले सकते हैं सनैक्स के तौर पर !
इसी तरह बांकी बचे हुए गुंथे आटे का भी बनायें....!

महत्वपूर्ण जानकारी:
👉 आटा ज्यादा बारीक़ न हो, अगर हो तो उसमें आप सूजी भी मिला सकते हैं !
👉 घी को आप दूध में भी डालकर मिला सकते हैं और सीधे आटे में भी गूँथने से पहले!
👉 खजूर को आप कोई भी आकार या डिजाइन अपने हिसाब से दे सकते हैं... नॉर्मली तो खजूर आयताकार बनाते हैं गांव में आसान होने की वजह से !

दोस्तों हमारा प्रयास अपने पहाड़ी खान पान को इस फेसबुक पेज के माध्यम से संजोने का प्रयास किया जा रहा है जिससे ये और भी लोगों तक पहुँच सके ! 🙏🙏

इस रेसिपी या व्यंजन के बारे में आपके पास भी कोई अन्य जानकारी या बनाने की विधि है तो हमारे साथ अवश्य साझा करें कमेन्ट के माध्यम से ! और आपको ये कैसा लगा अपनी राय अवस्य दें !
धन्यवाद !!

पेज एडमिन सदस्य
Gopu Bisht
फेसबुक पेज Pahadi Bagas-पहाड़ी बगस से साभार

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ