गोपाल बाबू गोस्वामी जी का गीत - ओ लाली ओ मेरी साई

गोपाल बाबू गोस्वामी जी का गीत - ओ लाली ओ मेरी साई,listen melodious songs of gopal babu goswami,gopal babu goswami ji ke geet

सुनिए गोपाल बाबू गोस्वामी जी के सुमधुर गीत

सुनें, गोपाल बाबू गोस्वामी जी का 
लोकप्रिय गीत "ओ लाली ओ मेरी साई,  ....... "

मित्रो, जैसा कि हम सब जानते हैं कि कुमाऊँ और उत्तराखण्ड में कई महान लोकगायक हुये हैं लेकिन गोपाल बाबू गोस्वामी एक ऐसे संगीत साधक हैं जिनकी पहचान ऊंचे पिच की वोईस क्वालिटी के कारण अपने आप में विशिष्ट है।  उनकी इस सुरीली आवाज का ही जादू है कि कुमाऊँनी ही नही अन्य भाषा-भाषी भी एक बार उनका गीत सुनने के बाद उनके गीतों को बार-बार सुनकर खुद गुनगुनाने को विवश हो जाता है।  गोपाल बाबू गोस्वामी जी ने विभिन्न प्रकार के गीत गाये हैं जैसे श्रंगार गीत, भक्ति गीत, पहाड़ के सौन्दर्य और पहाड़ के जन-जीवन से सम्बंधित गीत आदि।  आज हम सुनेंगे गोस्वामी जी का श्रृंगार रस से भरपूर लोकप्रिय गीत, "ओ लाली ओ मेरी साई,  हिट म्याला जूंलो मेरी साई"

गोपाल बाबू गोस्वामी जी के इस गीत में नायक अपनी साली को मेले के बारे में बताते हुए उसके साथ मेले में चलने का अनुरोध कर रहा है और नायिका के सौंदर्य का वर्णन भी कर रहा है।

ओ लाली ओ मेरी साई,
ओ लाली ओ मेरी साई,
हिट म्याला जूंलो मेरी साई,
हिट म्याला जूंलो मेरी साई।
ओ लाली ओ मेरी साली,
ओ लाली ओ मेरी साली,
चल मेले चल नखरे वाली,
चल मेले चल नखरे वाली।।

म्येलो घूमै ल्योंलो,
मोटर में बिठै ल्योंलो, 
हिट म्यला घूमै ल्योंलो,
मोटर में बिठै ल्योंलो।
चल मेला घुमाई दूंगा,
मोटर मा बिठाई दूंगा, 
चल मेला घुमाई दूंगा,
मोटर मा बिठाई दूंगा।

ओ लाली ओ मेरी साई,
ओ लाली ओ मेरी साई,
हिट म्यावा जूंलो मेरी साई,
हिट म्यावा जूंलो मेरी साई।
ओ लाली ओ मेरी साली,
ओ लाली ओ मेरी साली,
चल मेले चल नखरे वाली,
चल मेले चल नखरे वाली।।

जलेबी खवै ल्योंलो
चर्खी में घूमै ल्योंलो,
जलेबी खवै ल्योंलो,
चर्खी में घूमै ल्योंलो।
गरम गरम चाहा पकौड़ी,
कल्यौ में खवै द्यूँलौ,
गरम गरम चाहा पकौड़ी,
कल्यौ में खवै द्यूँलौ।।

जलेबी खिलाई दूंगा,
चरखे में घुमाई दूंगा,
जलेबी खिलाई दूंगा,
चरखे में घुमाई दूंगा।
गरम गरम चाय पकौड़ी,
नाश्ता कराई दूंगा,
गरम गरम चाय पकौड़ी,
नाश्ता कराई दूंगा।

ओ लाली ओ मेरी साई,
ओ लाली ओ मेरी साई,
हिट म्यावा जूंलो मेरी साई,
हिट म्यावा जूंलो मेरी साई।
ओ लाली ओ मेरी साली,
ओ लाली ओ मेरी साली,
चल मेले चल नखरे वाली,
चल मेले चल नखरे वाली।।

गीत की रिकॉर्डिंग पुरानी ऑडियो कैसेट्स से किसी प्रकार से की गयी है, आधुनिक डिजिटल टेक्नोलॉजी से इसकी तुलना न करें

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ