कहमुकरी - कुमाऊँनी भाषा में

कहमुकरी - कुमाऊँनी भाषा में, kumaoni kavita kahmukri chhand mein,kahmukri poem in kumaoni language

कहमुकरी - कुमाऊँनी भाषा में

रचनाकार: ज्योतिर्मयी पंत

कहमुकरी सबन है पैली अमीर खुसरो द्वारा लेखी गयी विधा छू यो।  यमें सखी सहेली आपस में यस बात कूनी जो यस लागौं की उ आपुन पति बार में बात करनईं।  पर जब उ पूछनी कि को छू यो तेर साजन?  तब उ उत्तर में बतूं नै यो दूसर क बार में छू।  एक तरह'क पहेली जस रचना में बातचीत हूँ।  आज कहमुकरी कैं कुमाउनी में लेखणक प्रयास कर राखौ।

सीटी बजै नजीक बलूछौ
भलो भलो पकवान पकूछौ
बात नी  सुनी गुस्स भयंकर 
को सखी साजन?  न प्रेशर कुकर।

रात भई तब ऊ घर ऐजां
धीरे गुनगुन गीत सुनै जां
चिंकोटि जसि काटी दीं अक्सर
को सखि  साजन ?  नै हो मच्च्छर।

हाथ पकड़ दगडे ही रूछ
बात करन में मगन है रूंछ
वी बिन जीवन कसी बिताइल
को सखि  साजन?  न मोबाइल।

रूप बदलि बै रात हूँ ऊँछ
छत खिड़की बै झांकते रूंछ
कसिक मिलूँ अलज्युनि घर-धंधा
को सखि बालम ?  नै हो चंदा।

ज्योतिर्मयी पंत, Oct 10, 2021

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ